Wednesday, 3 December 2014

विद्यालयी दैनिक नियोजन ( Daily Plan ), स्वप्रबन्धन (Self-Management)-

कुछ बातों पर ध्यान देने की आवश्यकता है -

1-प्रर्थना स्थल के कार्य-
• प्रार्थना से पूर्व स्वयं विद्यालय में उपस्थित होना |
• प्रार्थना से पूर्व विद्यालय परिसर की स्वच्छता,पीने की उपलब्धता एवं शौचालय की स्वच्छता पर ध्यान देना |
• बच्चों की उपस्थिति पर ध्यान देना |
• बच्चों की व्यक्तिगत स्वच्छता-वेशभूषा (नि:शुल्क ड्रेस) पर ध्यान देना जिसमें बच्चों की उपस्थिति हो |
• कहानी,सदाचारण,नीतिवाक्य और प्रेरक प्रसंग को बताना |
• प्रार्थना स्थल पर सामूहिक प्रार्थना, राष्ट्रगान का होना |
• प्रतिदिन बच्चों के लिए दिशा निर्देश तथा समाचार पत्रों का पढ़ा जाना |
• विद्यालय श्यामपट्ट पर आज का विचार व चिन्तन अंकित करवाना |
• अनुपस्थित बच्चों के कारणों के बारे में जानकारी प्राप्त करना |

2-कक्षा शिक्षण सम्बन्धी कार्य-
• टाइमटेबल बनाकर क्रमवार कक्षाओं का संचालन होना चाहिए |
• किस कक्षा में क्या पढ़ाया जायेगा उसे व्यवस्थित कर पूर्व तैयारी |
• बच्चों की अभ्यास पुस्तिकाओं की जॉच करना |
• कक्षा शिक्षण में शिक्षण अधिगम सामग्री का प्रयोग करना |
• शिक्षकों द्वारा लर्निंग कार्नर तथा शिक्षक संदर्शिकाओं के उपयोग पर बल देना |
• कमजोर बच्चों के लिए उपचारात्मक शिक्षण की व्यवस्था करना |
• किसी उपयोगी प्रतियोगिता/प्रतिस्पर्धा का आयोजन करना |
• पुस्तकालय , विज्ञान/गणित किट का प्रयोग करना |

3-सूचना प्रबन्धन , समुदाय से सम्पर्क तथा विद्यालय की अन्य गतिविधियों से संबंधित कार्य-
• मध्यान्ह भोजन की गुणवत्ता पर ध्यान देना |
• आज किस सूचना को तैयार कर विभागीय अधिकारियों तक प्रेषित किया जाना है....
• आज के कौन से कार्यक्रम/आगामी कार्यक्रम की क्या तैयारी करनी है पर विचार करना ?
• आय और व्यय का रख-रखाव करना |
• समुदाय/प्रबन्ध समिति के सदस्यों से सम्पर्क करना |
• विद्यालय वाटिका का सुन्दरीकरण एवं रख-रखाव पक ध्यान देना, यदि है तो |
आगे यदि आप सबके विचार हों तो आमंत्रित है जिसे कमेंट बाक्स में उपलब्ध करायें | जिससे समुचित विचारों को जोड़ा जा सके |